मध्य प्रदेश के युवाओं के कौशल विकास के लिए हुआ समझौता

Slider 1
« »
13th May, 2017 - 7:03 AM, Edited by

भोपाल। प्रधानमंत्री के सपनों को साकार करने और करोड़ो युवाओं को रोजगार देने के संकल्प को पूरा करने के लिए कल मध्य प्रदेश सरकार ने ‘'रोजगार की पढाई, चलें आईटीआई' कार्यक्रम की शुरुआत की | इस योजना के अंतर्गत हर साल तीन लाख युवाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा। कार्यक्रम में  मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय कौशल विकास मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) राजीव प्रताप रूड़ी और राज्य के कौशल विकास व तकनीकी शिक्षा मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) दीपक जोशी मौजूद रहे |

10,000 युवा होंगे प्रशिक्षित

मध्य प्रदेश राज्य कौशल विकास मिशन (एमपीएसएसडीएम) और अपैरल ट्रेनिंग और डिज़ाइन सेंटर (एटीडीसी) के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया। एमओयू पर मध्य प्रदेश के राज्य कौशल विकास मिशन के सीईओ संजीव सिंह और एटीडीसी के डीजी और सीईओ डॉ. डार्लि कोशी ने हस्ताक्षर किये । एमओयू के अनुसार, एटीडीसी हर साल 10,000 युवाओं को प्रशिक्षित करेगी। एटीडीसी ने मध्य प्रदेश में 16 एटीडीसी कौशल शिविरों में प्रशिक्षण शुरू करने का प्रस्ताव रखा है।

यह समझौता अभी तीन साल की अवधि के लिए किया गया है, और इसका उद्देश्य रोजगार उन्मुख प्रशिक्षण प्रदान करना तथा युवाओं को कौशल विकास के माध्यम से उद्यमिता को प्रोत्साहित करना है। इस मौके पर तकनीकी शिक्षा की मुख्य सचिव कल्पना श्रीवास्तव मौजूद भी मौजूद रहीं |

सॉफ्ट कौशल के साथ युवा हो रहे हैं तैयार

एटीडीसी के डीजी और सीईओ डॉ. डार्ली कोशी ने कहा कि, “ पैन-इंडिया में 200 अत्याधुनिक केंद्रों के माध्यम से, एटीडीसी रोजगार पाने के लिए या अपने स्वयं का रोजगार शुरू करने के लिए सॉफ्ट कौशल के साथ युवाओं को तैयार कर रहा है | एटीडीसी पाठ्यक्रम में यह विशेष ध्यान दिया जाता है कि प्रशिक्षण पाने वाले को वास्तविक औद्योगिक पर्यावरण का ज्ञान हो जिससे सिर्फ नौकरी ही नहीं बल्कि तेजी से बढ़ते परिधान उद्योग में अपना भविष्य बना सकें |”

कुशल श्रम शक्ति की है आवश्यकता

परिधान और वस्त्र उद्योगों के लिए मध्य प्रदेश को कुशल श्रम शक्ति की आवश्यकता है। उद्देश्य को पूरा करने के लिए, एटीडीसी ने राज्य के विभिन्न स्थानों पर अपने प्रशिक्षण केन्द्रों की स्थापना की है। मुख्य केन्द्र इंदौर, छिंदवाड़ा और भोपाल है जो अन्य क्षेत्रों तक पहुँच बनाती है |

मुख्यमंत्री द्वारा युवाओं को कौशल विकास के प्रति आकर्षित करने के लिए 'रोजगार की पढाई, चलें आईटीआई' कार्यक्रम को भी शुरू किया गया |